Test Blog Page

study-notes-kaise-banaye

Pratiyog Pariksha ke liye Study Notes Kaise banayen ?


प्रतियोगी परीक्षा के लिए नोट्स कैसे बनाएँ ?

नमस्कार दोस्तों ! प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी आज युद्ध स्तर पर किया जा रहा है | आज पढ़ाई करने के तरीकों मे अभूतपूर्व परिवर्तन आ चुका है मगर एक चीज़ आज भी बिलकुल शाश्वत सत्य है और वो है परीक्षा की तैयारी से पहले बनाने वाला स्टडि नोट्स | दोस्तों ! नोट्स को बनाना कोई आसान काम नहीं | आज हम विस्तार में नोट्स बनाने के बारे में चर्चा करेंगें |

Study Notes क्या है ?

यह एक बड़ा ही दिलचस्प सवाल है कि आखिर Study Notes है क्या ? हम सब इसे बनाते हैं और हम हर जगह इसकी बात सुनते हैं | पर क्या सच में आपको पता है कि Notes है क्या ? आज हम समय को बचाने के लिए बाज़ार से बने बनाए नोट्स खरीद कर ले आते हैं या अपने कोचिंग संस्थान द्वारा उपलब्ध कराये गए नोट्स से ही विशेष रूप से अभ्यास करते हैं | पर क्या सच मे यही नोट्स है ? मेरा मानना है कि नहीं यह सब नोट्स नहीं हैं | जब हम किसी विषय का गहन अध्ययन करते हैं और उसकी मूल बातों को समझ कर अपने शब्दों मे, अपनी भाषा शैली में और अपनी तरह से उसे संक्षेप में पन्नों पर लिख लेते हैं ताकि भविष्य में मात्र कुछ बिन्दुओं को देखकर ही पूर्व मे अध्ययन किए बातों को आसानी से याद कर सकें, उसे study notes कहते हैं |

दोस्तों ! मैं यह बिलकुल भी नहीं कहना चाहता कि आपको नोट्स जैसे आसान चीज़ के बारे में नहीं पता या फिर इसे लेकर आपको को उलझन है पर यह बात बिलकुल सच है कि जिस चीज़ को हम बार-बार देखते हैं, उसे करने को प्रेरित हो जाते हैं | आज हमारे चारों तरफ रेडीमेड नोट्स घूम रहे हैं और ऐसे मे आपकी अपनी मेहनत से बने नोट्स आपको भीड़ से अलग बनाए रखेंगे और यकीन मानिए सफलता तभी मिलती है जब हम खुद पर विश्वास करते हैं | खुद का अपना नोट्स बनाना अपने आप पर भरोसा करने का सबसे पहला कदम है |

 

अब हम इस बात को समझते हैं कि नोट्स बनाने में किन-किन बातों को ध्यान रखना चाहिए :-

  1. जब आप किसी विषय का चुनाव कर उस पर अपना अध्ययन शुरू कर देते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि नोट्स बनाने मे कोई जल्दीबाज़ी न करें |
  2. आप पहले उस विषय के किताबों को पढ़ें, उससे संबन्धित अन्य किताबों आदि का अध्ययन करें, तत्पश्चात नोट्स बनाने कि तैयारी करें |
  3. नोट्स आपके अध्ययन का सारांश है न कि आपका पूरा study, मतलब आप जब नोट्स तैयार करना शुरू करें तो सिर्फ उन्हीं महत्वपूर्ण बिन्दुओं को अंकित करें जो सर्वाधिक महत्वपूर्ण हो और जिनको देखने मात्र से ही उस टॉपिक को ध्यान मे लाया जा सके |
  4. नोट्स मे हमेशा उन्हीं शब्दों का प्रयोग करें जो आसान हो और आपको समझ मे आती हो | आप keywords / terms का भी प्रयोग करें |
  5. नोट्स विषय का संक्षेपन हो ध्यान रखें कि वो बहुत ज्यादा बड़ा नहीं हो |
  6. नोट्स को बिन्दुवार तैयार करें ताकि अधिक से अधिक topics को कम-से-कम शब्दों मे शामिल किया जा सके |
  7. नोट्स को अलग-अलग टॉपिक के अनुसार बनाएँ ताकि हर टॉपिक आपको अच्छी तरह से समझ मे आ सके |

दोस्तों ! नोट्स बनाने का अपना तरीका हमेशा सर्वश्रेस्ठ होता है | बाज़ार से नोट्स अवश्य खरीदें, अपने कोचिंग संस्थान के दिये नोट्स को भी बारीकी से पढ़ें पर अपना नोट्स हर स्थिति मे बनाएँ | उम्मीद करता हूँ दोस्तों कि मेरा यह लेख आपको पसंद आया होगा | आप अपने सुझाव नीचे कमेंट कर दे सकते हैं | धन्यवाद !!

pcs-exam-ki-taiyari-kaise-karen

PCS Exam ki taiyari kaise karen ?


पीसीएस (Provincial Civil Services) परीक्षा की तैयारी कैसे करें ?

नमस्कार दोस्तों ! आज हम PCS परीक्षा की तैयारी के बारे ने विस्तार से जानेंगें | यह बात सबको पता होगी कि प्रतियोगी परीक्षाओं मे सर्वाधिक आकर्षण अगर किसी भी परीक्षा मे है तो वो है पीसीएस की परीक्षा में | लगभग हर साल State Public Service Commission द्वारा आयोजित होने वाली इस परीक्षा को पास करने वाले अभ्यर्थी को राज्य के प्रशासनिक व्यवस्था मे कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य करने का अवसर मिलता है | तो आइये जानते हैं विस्तार मे कि PCS परीक्षा क्या है और इसकी तैयारी कैसे करते हैं :-

  1. PCS क्या है ?

पीसीएस का पूरा नाम प्रोवेंशियल सर्विस कमिशन है | इस परीक्षा को राज्य सरकार के स्टेट पब्लिक सर्विस कमिशन द्वारा आयोजित किया जाता है | इस परीक्षा मे सफलता पाने वाले अभ्यर्थी राज्य सरकार कि प्रशासनिक सेवा में जाते हैं और एसडीएम, डीएसपी, एआरटीओ, बीडीओ, जिला अल्पसंख्यक अधिकारी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी, असिस्टेंट कमिश्नर (व्यापार कर) समेत विभिन्न विभागों में कई उच्च पदों पर नियुक्त किए जाते हैं |

  1. PCS परीक्षा का पैटर्न क्या है ?

पीसीएस परीक्षा सबसे मुश्किल परीक्षाओं में से एक माना जाता है | इसका पैटर्न साल-दर-साल बदलता रहता है |  आम तौर पर इस परीक्षा का पैटर्न सिविल सर्विसेस परीक्षा के पैटर्न पर ही होता है मगर राज्य सरकारों द्वारा आयोजित किए जाने के कारण इसके पैटर्न मे उस राज्य के सामान्य ज्ञान पर विशेष ज़ोर दिया जाता है |

आमतौर पर सामान्य ज्ञान (General Studies) में विज्ञान, भारत का इतिहास, भारतीय राष्ट्रीय मूवमेंट, भारतीय राजनीति, अर्थशास्त्र, व्यापार, विश्व का भूगोल, करेंट affairs (सम-सामयिक) आदि विषयों को सम्मिलित किया जाता है | इसके अतिरिक्त उस राज्य की अर्थव्यवस्था, शिक्षा, भूगोल, सामाजिक स्थिति, कृषि आदि विषयों को भी प्रमुखता से शामिल किया जाता है | ऐसे मे यह वेहद जरूरी हो जाता है कि पीसीएस परीक्षा की तैयारी को विस्तृत रूप में किया जाए और syllabus के सभी विषयों की अच्छी किताबों का अध्ययन किया जाए |

पीसीएस परीक्षा तीन चरणों में सम्पन्न होती है :-

  • प्रारम्भिक परीक्षा (PT)
  • मुख्य परीक्षा (Mains)
  • साक्षात्कार (Interview)

पीसीएस की परीक्षा की तैयारी के लिए विशेष रूप से स्टेट बोर्ड के 10वीं-12वीं स्तर तथा NCERT के किताबों का अध्ययन करना चाहिए | इसके अतिरिक्त आपको बाज़ार मे Current Affairs के लिए प्रतियोगिता दर्पण, सामान्य ज्ञान के लिए Lucent का सामान्य ज्ञान और अन्य विषयों के लिए कई अच्छी किताबें मिल जाएगी |

  1. PCS परीक्षा में भाग लेने हेतु क्या अनिवार्यता होती है ?
  • शैक्षणिक अनिवार्यता : किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री का होना अनिवार्य है |
  • आयु सीमा : परीक्षा मे सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थी की उम्र 21 वर्ष से 40 वर्ष के मध्य होना चाहिए | आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों को नियमनुसार उम्र सीमा मे छूट प्राप्त होता है |
  • विशेष अनिवार्यता : कुछ विशेष पदों जैसे पुलिस आदि के लिए शारीरिक मापदंड (165-167 सेमी॰) तथा कुछ टेक्निकल पदों के लिए विशेष शैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता रखी जाती है |

तो दोस्तों ! उम्मीद करता हूँ कि मेरे आज के इस लेख से पीसीएस परीक्षा के संबंध मे कुछ संशयों का समाधान अवश्य मिला होगा | आप अपने विचार एवं सुझाव नीचे कमेंट कर दे सकते हैं | धन्यवाद दोस्तों !

competitive-exam-ki-taiyari-kaise-karen

Competitive Exams ki taiyari kaise karen ?


आज के इस युग मे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें |

नमस्कार दोस्तों ! www.prepu.in पर आपका स्वागत है | यहाँ पर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए सामान्य ज्ञान के प्रश्न-उत्तर और उनके जवाब आसानी से पा सकते हैं | चाहे तो आप राज्य-वार सामान्य ज्ञान चाहते हों या विषय-वार या फिर परीक्षा के अनुरूप यहाँ पर आपको वो सब मिलेगा जो आपको प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए चाहिए |

दोस्तों ! आज हम यह जानेंगे कि आज के इस कॉम्पटिशन के युग मे प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी कैसे करें | आज हमारे भारत मे अधिकांश युवा सरकारी नौकरी की तरफ तेजी से आकर्षित हो रहे हैं जिस कारण पहके की अपेक्षा आज के इस युग मे हर क्षेत्र मे गला-काट प्रतियोगिता का माहौल बन गया है | तो फिर क्या प्रतियोगी परीक्षा से हमे दूर चले जाना चाहिए या फिर इसकी तैयारी छोड़ देनी चाहिए ? नहीं, बिलकुल नहीं ! अगर सही तरीके और एक बेहतर पैटर्न के साथ हम प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं तो सफलता पाने से हमें कोई नहीं रोक सकता | तो दोस्तों आइये जानते हैं कि प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करते हैं और किन-किन बातों का हमें विशेष ध्यान रखना होता है :-

  1. Selection of your best Subject – सही विषय का चुनाव करें
  2. Time Management – सही टाइम मैनेजमेंट करें
  3. Be Confident – अपना आत्मविश्वास बनाए रखें
  4. Be Prepare with Paper Notes – पेपर नोट्स बनाएँ और उससे तैयारी करें
  5. Do Regular Mock Test – एक नियमित अंतराल पर ऑनलाइन टेस्ट अवश्य दें

 

  1. Selection of your best Subject – सही विषय का चुनाव करें

दोस्तों ! सबसे पहली जरूरी बात यह है कि आप सही विषय का चुनाव करें | आपके दोस्त, रिश्तेदार या आस-पास के लोगों ने क्या विषय चुना है या किस विषय से तैयारी करके किसी प्रतियोगी परीक्षा को पास किया है, हम भी उसी विषय का चुनाव कर लें यह बिलकुल भी सही नहीं होगा | हमने किस विषय से पढ़ाई की है या किस विषय पर हमारी पकड़ मजबूत है यह सर्वाधिक महत्वपूर्ण है | किसी को देखकर उसके पीछे चल कर हमें सफलता नहीं मिल सकती | हमें सफलता तभी मिल सकती है जबकि हम उस रास्ते पर चलें जिस पर हमारे पैर न लड़खड़ायेँ | मजबूत कदम सफलता की सबसे पहली सीढ़ी होती है |

  1. Time Management – सही टाइम मैनेजमेंट करें

दोस्तों ! दूसरी सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम अपनी पढ़ाई के लिए समय का सही प्रबंधन करें | ऐसा मान सकते हैं कि सही समय प्रबंधन (Time Management) है तो सब कुछ है अगर समय का प्रबंधन सही नहीं तो सफलता कभी नहीं | हम सबके पास एक समान 24 घंटे ही होते हैं पर कुछ लोग उसी 24 घंटे मे बहुत कुछ कर जाते हैं तो अधिकांश लोग बहुत कम ही कर पाते हैं | एक समान मेहनत के बाद भी अगर कुछ कमी रह जाती है तो वो सिर्फ समय प्रबंधन (Time Management) ही है और कुछ भी नहीं | अपने समय को कुछ इस तरह से प्रबंधित कर सकते हैं :-

  • समय-सारणी बनाएँ
  • अपने सबसे मजबूत विषयों को ग्रुप करें और समय निकाल कर उस पर अधिक तैयारी करें
  • अपने कमजोर विषयों की तैयारी के लिए ज्यादा समय का प्रबंधन करें
  • बेसिक विषयों के लिए पर्याप्त समय निकाल कर उसकी तैयारी करें

इस तरह के समय प्रबंधन करने से आप अपने सभी विषयों पर सही समय दे सकेगें और आपकी तैयारी बिलकुल सही दिशा मे बनी रहेगी |

  1. Be Confident – अपना आत्मविश्वास बनाए रखें

कहते हैं इंसान आग का दरिया पार कर सकता है, सात समंदर पार कर सकता है और किसी भी सफलता को पा सकता है बस उसके अंदर उसका आत्म-विश्वास बना रहना चाहिए | दोस्तों ! चाहे जो परिस्थिति आ जाए हमें अपने आत्म-विश्वास सदैव बनाए रखना चाहिए | किसी परीक्षा में सफलता मिल सकती है या सफलता नहीं भी मिल सकती है | हमारी परिस्थिति हमारे अनुकूल हो भी सकती है या नहीं भी हो सकती है |  हर चीज़ बदल सकता है पर हर अच्छे-बुरे परिस्थिति में हमारा आत्म-विश्वास बना रहना चाहिए | तभी हम कई असफलताओं या बड़ी मुश्किल परिस्थितियों में भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं |

  1. Be Prepare with Paper Notes – पेपर नोट्स बनाएँ और उससे तैयारी करें

किताबों से अच्छा दोस्त कोई नहीं, कलम से अच्छा सहयोगी कोई नहीं और पेपर से अच्छा कोई रास्ता नहीं ! ये सब सिर्फ बातें नहीं बल्कि सच है | आज के समय में हर चीज़ डिजिटल दुनिया मे प्रवेश कर चुका है | आज किसी भी चीज़ को इंटरनेट पर बड़ी आसानी से खोजा जा सकता है और मोबाइल/कम्प्युटर के माध्यम से भी तैयारी किया जा सकता है | पर किताबों की अहमियत न तो पहले कम हुई थी, न आज कम हुई है और न आगे कभी कम हो सकती हैं | अपने विषयों के किताबों को सामने रखकर पढ़ना सर्वश्रेस्ठ होता है | अपनी कलम से अपना बनाया नोट्स सर्वश्रेस्ठ होता है | हमारे द्वारा बनाए गए नोट्स परीक्षा के समय पूरे विषय को एक बार मे याद करने के समान होता है और इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता |

  1. Do Regular Mock Test – एक नियमित अंतराल पर ऑनलाइन टेस्ट अवश्य दें

आज गला-काट प्रतियोगिता का युग है | हर जगह प्रतियोगियों की संख्या इतनी अधिक हो चुकी है जिसकी कल्पना कर पाना भी मुश्किल है | इसलिए इस एडवांस युग मे अपनी तैयारी को भी एडवांस करने की जरूरत है | हर दिन कम-से-कम 2 घंटे ऑनलाइन टेस्ट के साथ तैयारी करना बहुत जरूरी है | आज लगभग सभी कोचिंग संस्था अपना ऑनलाइन टेस्ट series तैयार रखती है या फिर इंटरनेट पर इसकी कोई कमी नहीं | आने वाले परीक्षा की तैयारी उसी पैटर्न से सिलसिलेवार तरीके से किया जाए तो मुश्किल से मुश्किल परीक्षा भी आसान लगने लगती है | आप अपने budget के अनुसार Paid या Free ऑनलाइन टेस्ट series का चुनाव कर सकते हैं | आप मेरे इस Website पर भी अपने विषय या परीक्षा के अनुसार ऑनलाइन टेस्ट चुन कर तैयारी कर सकते हैं |

 

Conclusion:

दोस्तों ! ये कुछ बेसिक बातें थी जो कि इस बात के लिए जरूरी हैं कि हमारी तैयारी कैसे हो | जब आप किसी पैटर्न के साथ तैयारी शुरू कर देते हैं और अपना आत्म-विश्वास स्वयं पर बनाए रखते हैं तो यकीन मानिए सफलता आपके कदम चूमेगी | उम्मीद करता हूँ दोस्तों कि यह पोस्ट आपको पसंद आया होगा | आप अपने सुझाव या विचार नीचे कमेंट करके दे सकते हैं | धन्यवाद !!